कैसे शुरू करे डेरीफार्म का व्यापार

डेयरी फार्म का कारोबार आम दूसरे कारोबार की तरह नहीं होता है. ये कारोबार सुनने में जितना सरल लगता है उतना सरल बिल्कुल नहीं है.अक्सर कहते है खुद के मरे बिना स्वर्ग नहीं मिलता , डेयरी फार्म को  सही तरह से चलाने में  भी खुद को ही बहुत  मेहनत करना पड़ती है , नौकरों के भरोसे ये काम संभव नहीं है .  आइये समझे ,इस कारोबार को शुरू करने में किन-किन चीजों का ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है. कैसे आप इस कारोबार को सही तरह से चला सकते है. लेकिन इन सबसे पहले आपको ये जानना जरूरी है कि इस व्यापार की हमारे देश में क्या स्थिति है और इसके जरिए आप कितना मुनाफा कमा सकते हैं.

देश में डेयरी फार्म की मांग और इससे जुड़ा मुनाफा 

साल 2020-21 के दौरान किए गए एक आर्थिक सर्वेक्षण के मुताबिक दूध उत्पादन में भारत पहले स्थान पर है. भारत विश्व में होने वाले दूध उत्पादन का 22 % हिस्सा उत्पाद करता है. जिसका मतलब ये है कि इस व्यापार की मांग हमारे देश में काफी है. वहीं दूध एक ऐसा उत्पाद है जिसका निर्यात करके भी आप पैसे कमा सकते हैं. वहीं अभी हाल ही में भारत सरकार द्वारा पेश की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले सालो में डेयरी पालको की आय में 23.77% की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. इस बात से अनुमान लगाया जा सकता है कि इस व्यापार से ना केवल दूध की बल्कि इससे जुड़े किसानों की भी आय में अच्छी खासी वृद्धि हुई है.

स्थान का चयन करना-

इस व्यापार को शुरू करने से पहले आप एक स्थान का चयन कर लें. जहां पर आपके द्वारा खरीदी गई भैंसों या गायों को रखा जाएगा. किसी भी प्रकार की डेयरी खोलने से पहले स्थान का चयन करना बेहद ही जरूरी होता है. उस स्थान पर पानी की कैसी सुविधा है, इसको अच्छे से पता कर लें. क्योंकि भैंसों या गायों द्वारा अच्छा खासा पानी पिया जाता है. इसलिए ऐसे ही स्थान का चयन करें, जहां पर आपको खुलकर पानी मिल सके. वहीं गर्मी के मौसम में भैंसों या गायों को हवा देने के लिए पंखे की भी जरुरत पड़ती है. जिसके लिए ये देख लें, कि वहां पर बिजली की सुविधा मौजूद हो.

एक या दो एकड़ जमीन पर ही अपनी डेयरी को खोलें. क्योंकि जितना खुला स्थान होगा आप उतने अच्छे से भैंसों या गायों को दिए जाने वाली खाने के सामान को रख सकेंगे.

कई स्तर पर शुरू कर सकते हैं ये व्यापार 

इस व्यापार को आप छोटे, मध्यम और बड़े पैमाने पर भी शुरू कर सकते हैं. अगर आपके पास ज्यादा संख्या में भैंस या गाय खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं, तो आप केवल चार भैंसों को रखकर भी ये व्यापार खोल सकते हैं. लेकिन ये याद रखें की जितना ज्यादा दूध आपको इन भैंसों से मिलेगा उतना ज्यादा ही आपका मुनाफा होगा. यानी अगर आप चार भैंसे रखते हैं, तो आपको मुनाफा तो होगा ही मगर ज्यादा नहीं. वहीं अगर इन भैंसो या गायों की संख्या बढ़ा दी जाती है, तो आपका लाभ भी बढ़ेगा. नीचे हमने आपको तीन स्तर पर डेयरी फॉर्म खोलने से जुड़ी कुछ जानकारी दे रखी है.

  • बड़े स्तर पर डेयरी फार्म 

इस तरह की डेयरी फार्म खोलने के लिए आपको 20  लाख रुपए तक लगाने पड़ सकते हैं. इस डेयरी में आपको कम से कम 20 भैंसों को रखना होगा. एक भेंस  की अनुमानित कीमत ७५,०००/-(परिवहन सहित )आ सकती है . भवन निर्माण पर एवं अन्य उपकरणों पर ५ लाख खर्च अनुमानित है. वहीं अगर आपको एक भैंस दिन का 8 लीटर दूध देती है, तो 20 भैंसों के हिसाब से आपको दिन का 160 लीटर दूध बेचने के लिए मिल जाएगा. वहीं आप इस दूध को अगर कम से कम  40 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से बेचते हैं, तो आपको दिन की 6400  हजार रुपए की आय होगी. हालांकि इस आय  में निम्न खर्च शामिल है .

        एक दिन का एक भैंस पर खर्च 

 एक भैंस को पोषण आहार पर खर्च  दाना ५ किलो =१००/-                                     अपने खेत से प्राप्त हरा चारा १० किलो            =२०/-                                                     भूसा ५ किलो =                                २०/-

                                            १४० /-X २० भैंस =    २८०० 

 कर्मचारी /ब्याज /बिजली पानी/बीमा /इलाज अन्य खर्च  ८०  X  २० भैंस  = १६००                        

              ४४००/-

   एक भैंस से एक दिन की आय

  आय 6400 – 4400/- =2000 /- मुनाफा प्रति दिवस 

एक माह की आय 3600X30= 60,000/-  

तीसरे – चोथे साल से मुनाफे की सीमा बढ़ना शुरू हो जाती है क्योंकि अपने फार्म पर जन्मी भैंसों से भी आमदनी शुरू हो सकती है. 

 

 मध्यम स्तर की डेयरी फार्म : इस तरह की डेयरी फार्म चलाने के लिए आपको 7 से 10 लाख रुपए तक की जरूरत पड़ेगी.   वहीं आपको इस व्यापार को शुरू करने के लिए कम से कम 10 से 15  भैंसों या गायों की आवश्यकता पड़ेगी. वहीं आपके मुनाफे की बात करें, तो आपको इस लेवल के डेयरी फार्म को खोलने से करीबन 35 हज़ार तक का लाभ हो सकता है. वहीं अगर आप भैंसों या गायों की संख्या बढ़ा देते हैं तो आपका लाभ और बढ़ जाएगा.

  • छोटे स्तर के डेयरी फार्म (Small scale dairy farming)

आप कम पैसों में भी डेयरी खोल सकते हैं. छोटे स्तर पर इस व्यापार को शुरू करने के लिए आपको पांच भैंसों या गायों की जरूरत पड़ेगी. वहीं इन भैंसों को लेते समय ये सुनिश्चित कर लें, कि ये अच्छी नस्ल की हों और एक दिन में कम से कम 10 लीटर दूध तो अवश्य दे. छोटे स्तर पर डेयरी खोल कर आपको महीने के 20 हजार रुपए तक का लाभ हो सकता है.

भारत सरकार द्वारा डेयरी फार्म के कारोबार को बढ़ावा देने के लिए कई तरह की मदद की जा रही हैं. आप भैंस या गाय को सरकार द्वारा बनाए गए एक पोर्टल के जरिए खरीद सकते हैं. इस पोर्टल का लिंक इस प्रकार है– https://epashuhaat.gov.in/.  इस लिकं पर जाकर आपको कई नस्ल की भैंसों या गायों की जानकारी मिल जाएगी. इतनी ही नहीं आप चाहें तो इन्हें इस पोर्टल के जरिए खरीद या बेच भी सकते हैं. ऊपर बताए गए लिंक के अलावा आप एक अन्य लिंक पर भी जाकर भैंस को खरीद सकते हैं. ये लिंक इस प्रकार है

https://epashuhaat.gov.in/.  इस लिकं पर जाकर आपको कई नस्ल की भैंसों या गायों की जानकारी मिल जाएगी. इतनी ही नहीं आप चाहें तो इन्हें इस पोर्टल के जरिए खरीद या बेच भी सकते हैं, या आपिस लिंक पर भी जाकर खरीद सकते है 

https://www.indiamart.com/proddetail/jersey-cows-7765497548.htm

व्यापार करने का तरीका-

इस व्यापार को करने के दो तरीके हैं. पहले तरीके के तहत आप दूध को किसी कंपनी,दुग्ध संघ  या दूध के बड़े  व्यापारी को  को बेच सकते हैं. ऐसे कई सारी कंपनियां हमारे देश में हैं, जो कि दूध वालों से रोजाना उनका दूध खरीदती हैं. या फिर दूध आप  घर घर खुली बंदी बाँध कर बेच सकते है. इसमें मुनाफा व मेहनत दोनों ज्यादा है .  वहीं अन्य  तरीके के तहत आप अपनी कंपनी खोलकर दूध को बाजार में सीधे तौर पर बेच सकते हैं. हालांकि अपनी कंपनी खोलने के लिए आपको थोड़ी ज्यादा मेहनत करनी होगी. लेकिन एक बार आपकी कंपनी चलने लगेगी तो आपको लाभ भी अच्छा होगा. इतना नहीं कंपनी शुरू करके आप दूध से बनने वाले अन्य उत्पादों को भी बेच सकते हैं. जैसे दही, पनीर, मक्खन इत्यादि जैसे उत्पाद. यदि आपके पास गाय का दूध है तो बंगाली मिठाई बनाने वालो को भी आप दूध बेच सकते है .वहीं अगर आप कंपनी शुरू करते है तो नीचे दी गई बातों का ध्यान रखें.

व्यापार का पंजीकरण (License process)

अपनी कंपनी खोलकर अगर आप दूध बेचना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए अपनी कंपनी का पंजीकरण करवाना होगा. कंपनी का पंजीकरण करवाने के लिए आपको अपनी कंपनी के लिए एक नाम सोच कर रखना होगा. वहीं आप अपनी कंपनी के नाम का पंजीकरण स्थानीय प्राधिकरण से दफ्तर में जाकर करवा सकते हैं. इसके अलावा आपको ट्रेड लाइसेंस, FSSAI लाइसेंस और वैट पंजीकरण करवाने की भी जरूरत पड़ेगी. इन लाइसेंस और पंजीकरण की प्रक्रिया में आपका थोड़ा सा खर्चा भी आएगा 

अगर आपको इस कारोबार को शुरू करने में पैसों की कोई तंगी आ रही है, तो आप बैंक से लोन ले सकते हैं. वहीं इस व्यापार को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा भी कई तरह सब्सिडी की सुविधा दी जा रही है. वहीं किसी भी बैंक से लोन लेने से पहले ये सुनिश्चित जरूर कर लें, कि आपको वो लोन कितनी ब्याज दर और कितने समय के अंदर वापस करना होगा . यदि हमारे नवयुवक भाई बहनों ने डेयरी फार्म का काम  आने पारमपरिक ज्ञानके साथ में वैज्ञानक दृष्टिकोण अपना कर किया तो ये सौदा फायदे का हो सकता है