गौ नस्ल मालवी


उत्पत्ति – मुख्य रूप से भारवाही नस्ल। मध्यप्रदेश के मालवा क्षेत्र में पाई जाती है। त्वरित परिवहन के लिए सड़क पर उपयुक्त। बैल काले कपास की मिट्टी में अच्छी से तरह काम करते हैं। बहुत अधिक धीरज रखने वाले और किसी भी प्रकार की सड़कों पर भारी भार ले जाने की क्षमता रखते हैं।
विशेषताएं/ विशिष्ट लक्षण –
शरीर – छोटा, गहरा, गठिला और सुडौल।
शरीर का रंग – गले, कंधे, कूबड़ और पुट्ठों पर लगभग काला। गाय और बैल लगभग शुद्ध सफेद या हल्के रंग के होते हैं।
पीठ – सीधी और छोटी, पिछले पुट्ठों की ओर झुकी हुई।
पैर – शक्तिशाली परंतु छोटे और मजबूत खुर ।
गलगम्बल – अच्छी तरह से विकसित और म्यान मामूली सी लटकती हुई।
सिर -उभरे माथे के साथ छोटा और चैड़ा।
थूथन – चैड़ा, गहरा रंग और थोड़ा ऊपर उठा हुआ।
सींग – सिर के किनारे से निकलते हुये ऊपर की दिशा मजबूत और नुकीले।
कान – छोटे नुकीले और झुके हुये।
पूँंछ – मध्यम लंबाई तथा फेटलाक संधि तक पहुंचती, अंत में काले बालों का गुच्छा।
दुग्ध उत्पादन क्षमताः
औसत दैनिक दूध उत्पादन 2.55 लीटर और प्रति ब्यात दुग्ध उत्पादन 916 लीटर।