बछड़ों के आहार में खीस का महत्व एवं आहार प्रबंधन

पशुपालन व्यवसाय की सफलता और भविष्य में उसका विकास बहुत हद तक नवजात बछड़ों के स्वास्थ्य एवं समुचित प्रबन्ध पर निर्भर करता है क्योंकि यही बछड़े आगे चलकर दुधारू और कामकाजी पशुओं की जगह ले लेते है। अपने देश में अधिकांश स्थानों पर पशुपालक नवजात बछड़ों के शुरूआती पालन पोषण जैसे उचित मात्रा और उचित समय पर खीस पिलाना, ऐसी जरूरी बातों पर ध्यान नहीं देते है। उनका उपयोग पशुओं को दुहने से पहले बस दूध स्राव प्रेरित करने के लिए होता है। इन्हीं लापवाहियों के कारण बहुत से बछड़ों की मौत जन्म से 1 से 3 महिने के अंदर अधिकतर 0 से 15 दिन में ही हो जाती है। खीस जिसे अंग्रेजी में कोलस्ट्रम कहते है, यह स्तनधारी पशुओं में प्रसव के तुरन्त बाद स्रावित होने वाला दूध है, जो अनेक लाभदायक पोषक तत्वों से समृद्ध होता है। इसमें रोग विरोधी इम्यूनोग्लोबूलीन प्रोटीन्स भी प्रचुर मात्रा में होते है, जो बछड़ों को रोग प्रतिरोधक शक्ति प्रदान करके संक्रामक रोगों से उनका बचाव करते है।
बछड़ो के आहार में खीस का महत्व
खीस में विविध पोषक तत्व जैसे प्रोटीन्स, वसा, विटामिन्स, खनिज लवण, इम्यूनोग्लोब्यूलीन्स, प्रचूर मात्रा में उपलब्ध होता हैं, जो बछड़ों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।
खीस में प्रोटीन की मात्रा 17 प्रतिशत होती है, वहीं दूध में सिर्फ 3 प्रतिशत प्रोटीन होता है। खीस में इम्यूनोग्लोबूलीन प्रोटीन सबसे ज्यादा मात्रा में उपलब्ध होता है, जो बछड़ों में प्रतिरोधक शक्ति उत्पन्न करती है।
विटामिन्स जैसे विटामीन ए, डी और ई खनिजों जैसे कैल्शियम, मैग्निशियम, आयरन और फॅास्फोरस भी खीस में ज्यादा मात्रा में पाये जाते है। विटामिन्स और खनिज तत्व बछड़ों के विकास के साथ-साथ उनकी रोगों से बचाव में भी सहायता करते है।
खीस नवजात बछड़ों के आंत में फॅंसे हुए मल को निकालने में भी मदद करता है। अन्यथा किण्वन क्रिया से उसमें विविध विषैले घटक पैदा हो जाते हैं, जो या तो बछड़ों को बीमार बना देते हैं या उनकी मौत का कारण बन जाते है।

खीस पिलाने का उचित समय और प्राषन-विधि

वैज्ञानिकों की माने तो नवजात बछड़ों को जन्म के बाद पहले आधे घण्टे में ही सीख पिलाना जरूरी होता है, क्योकि जैसे-जैसे समय बीतता जाता है बछड़ों के (छोटी आंत से) शरीर में इम्यूनोग्लोबूलीन्स का शोषण कम होता जाता है। समान्यतः नवजात बछड़ों के जन्म के बाद चार से छह घण्टे के अंदर खीस पिलाया जा सकता है। जन्म के बाद पहले 24 घण्टें में नवजात बछड़ों को उनके वजन के 12 से 15 प्रतिशत तक खीस पिलाना जरूरी होता है। यह खीस की पूरी मात्रा दो या तीन हिस्सों में बाॅटकर बछड़ों को दिन में दो या तीन बार पिलायी जानी चाहिये। दूसरे, तीसरे और चैथे दिन तक बछड़ों के वजन के 10 प्रतिशत तक खीस पिलाना चाहिये। खीस पिलाते समय हमेशा एक बात का ध्यान रखे के खीस को कभी उबालना नहीं चाहिए क्योंकि इससे वो फट जाती है और उसकी पोषकता घट जाती है। अगर बछड़ों को बहुत ज्यादा दस्त हो रहा है, तो खीस या दूध की मात्रा कम कर सकते हैं, लेकिन इसे पूर्णतः बद नही करना चाहिये।