भारतीय नस्ल की भदावरी भैंस


उत्पत्ति – आगरा (भदावरी तहसील) और उत्तर प्रदेश का इटावा जिला और मध्यप्रदेश का ग्वालियर जिला। बैल अच्छे भारवाही । बेहतर गर्मी सहिष्णुता वाले और मोटे दाने को वसा मे परिवर्तन करने में कुशल।
विशेषताएं/विशिष्ट लक्षण –
शरीर – मध्यम और पतवार के आकार का।
शरीर का रंग – हल्के या तांबे का रंग।
सिर – तुलनात्मक रूप से छोटा।
पैर – छोटे और मजबूत, पिछली टाँगों व पुट्ठे एक समान परंतु आगे के पुट्ठों से बड़े एवं ऊॅंचे ।
थन – अच्छी तरह से विकसित नहीं होते है। टीट्स मध्यम आकार के होते हैं।
पॅूंछ – लम्बी, पतली, लचीली होती हैं, जो बिछाने तक पहुंचती हैं।
रंग – काला और सफेद या शुद्ध सफेद चिह्नों के साथ
पलक – कॉपर या हल्के भूरे रंग की।
सींग – थोड़ा ऊपर की ओर घुमावदार, गर्दन के समानांतर नोंक ऊपर की तरफ घुमावदार।
गर्दन के निचले हिस्से में दो अलग-अलग सफेद लाइन। कड़ी मौजूद रहती है।
दुग्ध उत्पादन क्षमता – औसत दूध उत्पादन प्रति ब्यात में 800 से 1000 किलो। दूध में वसा 10-13 प्रतिषत।
औसत वयस्क शरीर का वजन – गाय और सांड 386 और 476 किलोग्राम, क्रमशः।